नई दिल्ली – मुनि इंटरनेशनल स्कूल के छात्र देश में चल रही पारंपरिक शिक्षण पद्द्ति को पीछे छोङ़ते हुए आधुनिक वैशविक दौर की शिक्षा ग्रहण करते हैं। वहीं भारत के वैभवशाली गौरव का आदर करते हुए अन्य विदेशी भाषाओं के साथ-साथ अपनी संस्कृत भाषा को भी परंपरा में बनाए रखने के लिए संस्कृत भाषा को भी पठन-पाठन करते हैं। इसीका परिणाम है कि स्कूली छात्र अपने विभिन्न कार्यक्रमों में संस्कृत गीतों को बङे ही आदर व सम्मान के साथ गाता है। संस्कृत गीत देशोयम्म् , देशोयम को स्कूल ने अपने स्कूल गीत के रूप में स्वीकारता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *